Mirza Ghalib Shayari In Hindi – Mirza Ghalib Shayari की दुनिया का वो नाम जो शायद शायरी का ही दूसरा नाम है। मिर्जा असदुल्लाह बेग खान ने जब “ग़ालिब” के तख्खलुस से शायरी शुरू की, कौन जानता था वो एक सितारे बन जायेंगे हमेशा हमेशा के लिए। 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi के इस पोस्ट में आप ग़ालिब की वो शायरी देखेंगे जिसका हर लफ्ज़ आपके दिल को छूता हुआ सीधे आपकी रूह में बस जाएगा। 

ग़ालिब की शायरी के अंदाज़ के क्या कहने। आप जितना भी सुन पढ़ लो काम ही रहेगा। ग़ालिब न खुद के बारे में कहा था – 

“हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहोत अच्छे
कहते है कि, घाली का है अंदाज़े बयाँ और”

और ये बात कुछ गलत नहीं कही थी उन्हने। वाकई ग़ालिब का अंदाज़े बयाँ सबसे अलग था। 

आइये देखते हैं इस महान शायर की कुछ दिल को छू जाने वाली शायरियां। 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi

Mirza Ghalib Shayari In Hindi

Mirza Ghalib Shayari In Hindi

भीगी हुई सी रात में जब याद जल उठी
बादल सा इक निचोड़ के सिरहाने रख लिया !!

Bheege Hui Se Raat Me Jab Yaad Jal Uthi
Badal Sa Ek Nichod Ke Sirhane Rakh Liya !!

सब ने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास
जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले

ghalib shayari 2 lines

Mirza Ghalib Two Line Shayari In Hindi

Sab Ne Pahna Tha Bade Sauk Se Kagaj Ka Libaas
Jis Kadar Log The Barrish Me Nahane Wale

ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए उम्र भर
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में !!

Ta Fir Na Intijaar Me Need Aay Umar Bhar
Ane Ka Ahad Kar Gy Aay Jo Khwab Me!!

मरते है आरज़ू में मरने की
मौत आती है पर नही आती
काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुमको मगर नही आती

Marate hai aarazoo mein marne ki
Maut aati hai par nahee aati
Kaaba kis munh se jaoge ‘gaalib’
Sharm tumako magar nahee aati

फिर उसी बेवफा पे मरते हैं फिर वही ज़िन्दगी हमारी है
बेखुदी बेसबब नहीं ग़ालिब कुछ तो है जिस की पर्दादारी है

Phir Usi Bewafa Pe Marte Hai
Phir Wahi Zindagi Hamari Hai
Bekhudi Besabab Nhi Ghalib
Kuch To Hai Jis Ki Pardadari Hai

नादान हो जो कहते हो क्यों जीते हैं ग़ालिब
किस्मत मैं है मरने की तमन्ना कोई दिन और

Nadaan Ho Jo Kahtey Ho Kyo Jeete Hai Galib
Kismat Mai Hai Marne Ki Tamnna Koi Din Aur

हम भी दुश्मन तो नहीं हैं अपने
ग़ैर को तुझ से मोहब्बत ही सही

Hum bhi dushman to nahi hai apne
Gair ko tujh se mohabbat hi sahi

Heart TouchIng Mirza Ghalib Shayari In Hindi

ghalib shayari hindi me

Mirza Ghalib Shayari In Hindi On Love

सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है

Sadgi Par Us Ke Mar Jaane Ki Hasrat Dil Me Hai
Bas Nhi Chalta Ki Phir Khnjar Kaaf-Ae-Katil Me Hai

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है !!

Rango Me Daudte Firne Ke Ham Nahi Kaiel
Jab Ankh Hi Se Na Tapka To Fir Lahu Kya Hai !!

ता हम को शिकायत की भी बाक़ी न रहे जा
सुन लेते हैं गो ज़िक्र हमारा नहीं करते
ग़ालिब तेरा अहवाल सुना देंगे हम उनको
वो सुन के बुला लें ये इजारा नहीं करते

Ta hum ko shikayat ki bhi baqi na rahe ja
Sun lete hain go zikra hamara nahi karte
Ghalib tera ahaval suna denge ham unako
Wo sun ke bula len ye izara nahin karate

लाज़िम था के देखे मेरा रास्ता कोई दिन और
तन्हा गए क्यों अब रहो तन्हा कोई दिन और

Lajeem Tha Ke Dekh Mera Rasta Din Aur
Tanha Gay Kyo Ab Raho Tanha Koi Din Aur

तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिला के दिखा
नहीं तो दो घूँट पी और मस्जिद को हिलता देख

Teri Duao Me Asar Ho To Masjeed Ko Hila Ke Dikha
Nhi To Do Ghut Pee Aur Masjeed Ko Hilta Dekh

कहाँ मयखाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज
पर इतना जानते है कल वो जाता था के हम निकले

Khaan mayakhaane ka darawaaza ‘gaalib’ aur kahaan waij
Par itna jaanate hai kal wo jaata tha ke ham nikale

एजाज़ तेरे इश्क़ का ये नही तो और क्या है
उड़ने का ख़्वाब देख लिया इक टूटे हुए पर से !!

Aejaj Tere Ishq Ka Ye Nhi To Aur Kya Hai
Udne Ka Khwab Dekh Liya Ek Tute Hue Par Se !!

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2 Lines

mirza ghalib hindi shayari

Love Shayari of Mirza Ghalib In Hindi

है और तो कोई सबब उसकी मुहब्बत का नहीं
बात इतनी है के वो मुझसे जफ़ा करता है !!

Hai Aur To Koi Sabab Uski Mohabaat Ka Nhi
Baat Itni Hai Ke Vo Mujhse Jafa Karta Hai !!

मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का
उसी को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले

Mohabbat mein nahee phark jeene aur marane ka
Usee ko dekhakar jeete hai jis ‘kaafir’ pe dam nikale

मिर्ज़ा ग़ालिब की माली हालत जब बहोत खराब हो गयी थी तब बहादुर शाह ज़फर ने उन्हें अपने दरबार में बुलाया और उन्हें हर महीने एक बंधी रकम देने की बात कही। ग़ालिब को इस बात ने बहोत दर्द पहुँचाया था और उन्होंने कहा था –

’ग़ालिब’ वज़ीफ़ाख़्वार हो, दो शाह को दुआ
गए वो दिन कि कहते थे नौकर नहीं हूं मैं!!

‘Ghalib’ wazifaquar ho do shah ko dua
Gaye wo din ki kahate thhe naukar nahin hun main

ग़ालिब ने यह कह कर तोड़ दी तस्बीह
गिनकर क्यों नाम लू उसका जो बेहिसाब देता है

Ghalib ne yah kah kar tod dee tasbeeh
Ginakar kyon naam loo usaka jo behisaab deta hai

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन
बैठे रहें तसव्वुर–ए–जानाँ किए हुए !!

Jee Dhundta Hai Phir Vhi Fursat Ki Raat Din
Baithe Rhe Tasvur-Ae-Jaan Kiye Hue

बे-वजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रूलाता ज़रूर

Be-Wajha Nhi Rota Ishq Me Koi Ghalib
Jis Khud Se Badh Kar Chao Wo Rulata Zarur

Mirza Ghalib ki Shayari In Hindi

ghalib shayari

Mirza Ghalib Shayari

अदल के तुम न हमे आस दिलाओ
क़त्ल हो जाते हैं  ज़ंज़ीर हिलाने वाले

Adl Ke Tum Ne Hme Aas Dilao
Katl Ho Jate Hai Janjeer Hilane Wale

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन
दिल के खुश रखने को ग़ालिब यह ख्याल अच्छा है

Hamko Maloom Hai Jannat Ki Haqekat Lekin
Dil Ke Khus Rakhne Ko Ghalib Yh Khayaal Accha Hai

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई
दोनों को एक अदा में रजामंद कर गई

Dil Se Teri Nigaha Jigar Tak Utar Gai
Dono Ko Ek Ada Me Rajamand Kar Gai

तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है

Tu mila hai to ye ehsaas hua hai mujhko
Ye meri umr mohabbat ke liye thodi hai

Mirza Ghalib Love Shayari In Hindi

ghalib mirza Shayari In Hindi

Mirza Ghalib 2 Line Shayari In Hindi

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है

Jala hai zism jahan dil bhi jal gaya hoga
Kuredte ho jo ab raakh justju kya hai

खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है
मैं वह कतरा हूं समंदर मेरे घर आता है

Khud ko manwane ka mujhko bhi hunar aata hai
Main wah katra hu smundar mere ghar aata hai

देखिए लाती है उस शोख़ की नख़वत क्या रंग
उस की हर बात पे हम नाम-ए-ख़ुदा कहते हैं

Dekhiye laatee hai us shokh kee nakhavat kya rang
Us kee har baat pe ham naam-e-khuda kahate hain

तुम न आए तो क्या सहर न हुई
हाँ मगर चैन से बसर न हुई
मेरा नाला सुना ज़माने ने मगर
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई

Tum na aye to kya sahar n hui
Haan magar chain se basar n hui
Mera nala suna zamaane ne magar
Ek tum ho jise khabar n hui

तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है

Tu Mila Hai To Ye Ahsas Hua Hai Mujhko
Ye Meri Umar Mohabaat Ke Liye Thodi Hai

बस कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना

Bus ki dushwar hai har kaam ka aasan hona
Aadmi ko bhi mayassar nahi insaan hona

आया है मुझे बेकशी इश्क़ पे रोना ग़ालिब
किस का घर जलाएगा सैलाब भला मेरे बाद

Aya Hai Mujhe Bekasi Ishq Pe Rona Ghalib
Kis Ka Ghar Jlayga Sailab Bhala Mere Baad

मिर्ज़ा गालिब दर्द शायरी इन हिंदी

Mirza Ghalib Shayari In Hindi rekhta

Mirza Ghalib Shayari In Hindi language

कुछ लम्हे हमने ख़र्च किए थे मिले नही
सारा हिसाब जोड़ के सिरहाने रख लिया !!

Kuch Lamhe Hamne Kharch Kiye The Mile Nhi
Sara Hisab Jod Ke Sirhane Rakh Liya !!

मुहब्बत में उनकी अना का पास रखते हैं
हम जानकर अक्सर उन्हें नाराज़ रखते हैं !!

Mohbaat Me Unki Ana Ka Pass Rakhte Hai
Ham Jaankar Aksar Unhe Naraj Rakhte Hai

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब
यह न सोचा के
एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी

Main nadan tha jo wafa ko talash krta raha ghlaib
Yeh naa socha ke
Ek din apni saans bhi bewafa ho jaegi

गुज़र रहा हूँ यहाँ से भी गुज़र जाउँगा
मैं वक़्त हूँ कहीं ठहरा तो मर जाउँगा !!

Gujar Raha Hu Yha Se Bhi Gujar Jaunga
Mai Waqt Hu Kahi Thara To Mar Jaunga !!

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के

Ishq Ne Galib Nikmma Kar Diya
Warna Ham Bhi Aadmi The Kaam Ke

मिर्ज़ा गालिब की शायरी

ghalib shayari two lines

Ghalib Shayari 2 Lines

शहरे वफा में धूप का साथी नहीं कोई
सूरज सरों पर आया तो साये भी घट गए

Shahare vapha mein dhoop ka saathee nahin koee
Sooraj saron par aaya to saaye bhee ghat gae

फिर तेरे कूचे को जाता है ख्याल
दिल -ऐ -ग़म गुस्ताख़ मगर याद आया
कोई वीरानी सी वीरानी है
दश्त को देख के घर याद आया

Phir Tere Kuche Ko Jata Hai Khayal
Dil-Ae-Gam Gustak Magar Yaad Aaya
Koi Wiraani Si Wiraani Hai
Dast Ko Dekh Ke Ghar Yaad Aya

ग़ालिब की शायरी हिंदी में

Mirza Ghalib Ki Shayari

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं

Ranj se khoogar hua insaan to mit jaata hai ranj
Mushkilen mujh par padeen itanee ki aasaan ho gaeen

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

Ishrat-ae-katra hai dariya me fana hi jana
Dard ka hadd se guzrna hai dawa ho jana

खैरात में मिली ख़ुशी मुझे अच्छी नहीं लगती ग़ालिब
मैं अपने दुखों में रहता हु नवावो की तरह

Khairat me mili khushi mujhe acchi nahi lgti ghalib
Main apne dukho me rhta hu nawabo ki tarah

Mirza Ghalib Shayari On Life In Hindi

ग़ालिब दो लाइन शायरी

Ghalib 2 Line Shayari

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता

Na tha kuchh to khuda tha kuchh na hota to khuda hota
Duboya mujh ko hone ne na hota main to kya hota

एक एक क़तरे का मुझे देना पड़ा हिसाब
ख़ून-ए-जिगर वदीअत-ए-मिज़्गान-ए-यार था

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी 

Ak ak katre ka mujhey dena para hisab
khoon-a-jigar wadiyad-a-mizgaan-a-yaar thha

लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब”
हम तुम को याद करते हैं सीधी सी बात है

Lafzo ki tarteeb mujhe bandhni nahi aati “Ghalib”
Hum tumko yaad krte hai seedhi si baat hai

लोग कहते है दर्द है मेरे दिल में
और हम थक गए मुस्कुराते मुस्कुराते

Log khte hai dard hai mere dil me
Aur hum thak gaye muskurate-muskurate

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

Is Sadgi Pe Kon Na Mar Jay Ae Khuda
Ladte Hai Aur Hath Me Talwar Bhi Nhi

Mirza Ghalib Shayari CollectiOn In Hindi

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी इन उर्दू

मिर्जा गालिब दर्द शायरी इन हिंदी

फ़िक्र–ए–दुनिया में सर खपाता हूँ
मैं कहाँ और ये वबाल कहाँ !!

Fikr-Ae-Duniya Me Sar Khapata Hu
Mai Kha Aur Ye Bawall kahan

गुज़रे हुए लम्हों को मैं इक बार तो जी लूँ
कुछ ख्वाब तेरी याद दिलाने के लिए हैं !!

Gujre Hue Lamho Ko Mai Ek Baar To Jee Lu
Kuch Khwab Teri Yaad Dilane Ke LiYE Hai !!

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था

Aaina dekh apna sa muh le ke rh gaye
Sahab ko dil naa dene pe kitna guroor tha

उस पे आती है मोहब्बत ऐसे
झूठ पे जैसे यकीन आता है

Us Pe Ati Hai Mohabaat Aise
Jhuth Pe Jaise Yakeen Ata Hai

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी

Mai Nadaan Tha Jo Wafa Ko Talaash Karta Rha Ghalib
Yh Na Socha Ke Ek Din Apni Saans Bhi Bewafa Ho Jayagi

Mirza Ghalib Romantic Shayari In Hindi

mirza ghalib love shayari

Mirza Ghalib ShayariOn Love

मत पूछ कि क्या हाल है मेरा तिरे पीछे
तू देख कि क्या रंग है तेरा मिरे आगे !!

Mat Pooch Ki Kya Haal Hai Mera Tere Peeche
Tu Dekh Ki Kya Rang Hai Tera Mera Aage !!

मैं उन्हें छेड़ूँ और कुछ न कहें चल निकलते जो में पिए होते
क़हर हो या भला हो  जो कुछ हो काश के तुम मेरे लिए होते

Mai Unhe Ched Aur Kuch Na Khe
Chal Niklte Jo Me Piye Hote
Kaher Ho Ya Bhala Ho
Jo Kuch Ho Kaash Ke Tum Mere Liye Hote

यादे–जानाँ भी अजब रूह–फ़ज़ा आती है
साँस लेता हूँ तो जन्नत की हवा आती है !!

Yaad- Jana Bhi Ajab Ruh-Faza Ati Hai
Sans Leta Hu To Jannat Ki Hawa Ati Hai!!

Mirza Ghalib 2 Line Shayari In Hindi

Mirza Ghalib Shayari Collection In Hindi

Mirza Ghalib Shayari On Life In Hindi

अर्ज़–ए–नियाज़–ए–इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा
जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल नहीं रहा

Arz-Ae-Niyaz-Ae-Ishq Ke Kabil Nhi Raha
Jis Dil Pe Naaz Tha Mujhe Vo Dil Nhi Raha

दिल–ए–नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

Dil-Ae-Naad Tujhe Hua Kya Hai
Akhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai

दर्दे दिल शायरी भी पढ़ें 

इक क़ुर्ब जो क़ुर्बत को रसाई नहीं देता
इक फ़ासला अहसास–ए–जुदाई नहीं देता

Ek Kurb Jo Kurbat Ko Rasoi Nhi Deta
Ek Fasla Ahsaas-Ae-Judai Nhi Deta

ज़िन्दग़ी में तो सभी प्यार किया करते हैं
मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा !!

Zindagi Me To Sabhi Pyaar Kiya Karte Hai
Mai To Mar Kar Bhi Meri Jaan Tujhe Chaunga !!

Mirza Ghalib Shayari In Hindi On Life

उल्फ़त पैदा हुई है  कहते हैं  हर दर्द की दवा
यूं हो तो चेहरा -ऐ -गम उल्फ़त ही क्यों न हो

Ulfat Paida Hui Hai Kahtey Hai Har Dard Ki Dava
Yu Ho To Chera-Ae-Gam Ulfat Hi Kyu Na Ho

रोक लो गर ग़लत चले कोई
बख़्श दो गर ख़ता करे कोई !!

Rok Lo Gar Galat Chale Koi
Baksh Do Gar Kahta Kare Koi !!

चाहें ख़ाक में मिला भी दे किसी याद सा भुला भी दे
महकेंगे हसरतों के नक़्श हो हो कर पाएमाल भी !!

Chahe Khak Me Mila Bhi De Kisi Yaad Sa Bhula Bhi De
Mahekenge Hasrato Ke Naksh Ho Ho Kar Paymaal Bhi !!

आशा करती हूँ कि, Mirza Ghalib Shayari In Hindi के इस पोस्ट में आपको ग़ालिब की शायरी वैसी ही मिलीं जैसा आपने सोचा था। यहाँ तक रकने के लिए आपका बहोत बहोत धन्यवाद्!

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *